Mange Ram

पंडित मांगे राम पंडित मांगे राम का जन्म सिसाना (रोहतक) जो की अब सोनीपत जिले के अंतर्गत आता है, में 1905 हुआ | इनके पिता का नाम अमर सिंह व माता का नाम धरमो देवी था | पंडित मांगे राम के चार भाई – टीकाराम, हुकमचंद चंदरभान और रामचंद्र तथा दो बहने- नौरंगदे (गोंधा) और …

Mange Ramऔर पढ़णा सै… »

Baje Bhgat

बाजे भगत बाजेराम, जिसे जनमानस बाजे भगत कहकर पुकारता है, का जन्म जिला सोनीपत के गांव सिसाणा में 16 जुलाई, 1898 ( विक्रमी सम्वत 1955 में श्रावण मास की शिवरात्रि ) को हुआ | उनके पिता का नाम बदलू राम व माता का नाम बादमो देवी था | चार बहन-भाईयो में बाजेराम तीसरे नंबर पे थे, जिसमे …

Baje Bhgatऔर पढ़णा सै… »

Shaheed Kavi Mehar Singh

शहीद कवि जाट मेहर सिंह एक अनुमान के अनुसार उनका जन्म 15 फरवरी 1918 को बरोणा  तहसील-खरखौदा (जिला-सोनीपत) हरियाणा में नंदराम के घर हुआ। चार भाइयों भूप सिंह, मांगेराम, कंवर सिंह व एक बहन सहजो में वह सबसे बड़े थे। परिवार की माली हालत के चलते पढऩे में होशियार होने के बावजूद वे तीसरी जमात …

Shaheed Kavi Mehar Singhऔर पढ़णा सै… »

Haryana-Introduction

हरियाणा-एक परिचय हरियाणा उत्तर भारत का एक राज्य है जिसकी राजधानी चण्डीगढ़ है। इसकी सीमायें उत्तर में हिमाचल प्रदेश, दक्षिण एवं पश्चिम में राजस्थान से जुड़ी हुई हैं। यमुना नदी इसके उत्तराखण्ड और उत्तर प्रदेश राज्यों के साथ पूर्वी सीमा को परिभाषित करती है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली हरियाणा से तीन ओर से घिरी हुई है और फलस्वरूप हरियाणा का दक्षिणी क्षेत्र नियोजित विकास के उद्देश्य से राष्ट्रीय …

Haryana-Introductionऔर पढ़णा सै… »

History of Haryana

हरियाणा का इतिहास​ हरियाणा अब पंजाब का एक हिस्सा नहीं है पर यह एक लंबे समय तक ब्रिटिश भारत में पंजाब प्रान्त का एक भाग रहा है और इसके इतिहास में इसकी एक महत्वपूर्ण भूमिका है। हरियाणा के बानावाली और राखीगढ़ी, जो अब हिसार में हैं, सिंधु घाटी सभ्यता का हिस्सा रहे हैं, जो कि …

History of Haryanaऔर पढ़णा सै… »

Dada Lakhmi Chand

सूर्यकवि पं॰ श्री लखमीचन्द हरियाणा के सूर्यकवि एवं हरियाणवी भाषा के शेक्सपीयर के रूप में विख्यात पं॰ श्री लखमीचन्द का जन्म सन 1901 में तत्कालीन रोहतक जिले के सोनीपत तहसील मे जमुना नदी के किनारे बसे जांटी नामक गाँव के साधरण गौड़ ब्रहाम्ह्ण परिवार मे हुआ । श्री लखमीचंद के पिता पं॰ उमदीराम एक साधारण से …

Dada Lakhmi Chandऔर पढ़णा सै… »