mehar singh ki ragni

जगदेव-बीरमति (फौजी मेहर सिंह)

किस्सा जगदेव-बीरमति एक समय की बात है की मालवा देश में राजा उदयदत राज किया करते थे जिनकी राजधानी धारा नगरी थी। उनकी दो रानियाँ थी, बड़ी राणी सोलंकनी से जगदेव तथा छोटी राणी वाघेलनी से रणधूल का जन्म हुआ। जगदेव का विवाह पडोसी राज्य टोंकाटोंक (टोड) नरेश टोडरमल की राजकुमारी बीरमती से हो चुका था परन्तु अभी तक गौणा संपन्न नहीं हुआ था। सारे राज्य में खुशहाली थी। राजा जगदेव को अपना उतराधिकारी घोषित करना चाहते थे परन्तु छोटी […]

जगदेव-बीरमति (फौजी मेहर सिंह) ...और पढणा सै

चापसिंह-सोमवती (फौजी मेहर सिंह)

किस्सा चापसिंह-सोमवती दिल्ली में मुगल बादशाह शाहजहां राज किया करते थे। उनके भूतपूर्व दरबारी ठाकुर अंगध्वज का लड़का चाप सिंह मुगल सेना में सिपहसालार के पद पर भर्ती हो गया। समय गुजरता गया कुछ ही अर्सा में राजपूत चाप सिंह अपनी कर्त्तव्यपरायणता तथा शूरवीरता के कारण मुगल दरबार में चर्चित हो गया। दूसरा सिपहसालार शेरखान जो बादशाह शाहजहां का साला था अन्दर ही अन्दर चाप सिंह से जलने लगा। वह किसी ऐसे मौके की तलाश में रहता था जब चाप

चापसिंह-सोमवती (फौजी मेहर सिंह) ...और पढणा सै

सत्यवान-सावित् (फौजी मेहर सिंह)

किस्सा सत्यवान-सावित्री राजा अश्वपति के घर कोई संतान नहीं थी। राजा देवी की खूब पूजा करता है। एक दिन देवी उसके सामने प्रकट हो जाती है ओर कहती की राजन मैं तुम्हारी भक्ति से प्रसन्न हूं मांगो क्या मांगते हो। इस पर राजा अश्वपति देवी के सामने संतान की इच्छा प्रकट करते है। तो देवी खुश होकर वरदान के रूप में एक कन्या (सावित्री ) उनको दे देती है। जब वह कन्या जवान हों जाती है तो राजा को उसकी

सत्यवान-सावित् (फौजी मेहर सिंह) ...और पढणा सै

सरवर-नीर (फौजी मेहर सिंह)

किस्सा सरवर-नीर अमृतसर में राजा अम्ब राज किया करते थे। उनकी रानी का नाम अम्बली तथा दो पुत्रों के नाम सरवर और नीर थे। राजा अत्यन्त सत्यवादी और धर्मात्मा पुरुष थे। उनकी परीक्षा लेने के लिए एक दिन स्वयं भगवान साधु का वेश धारण कर राजा अम्ब के दरबार में अलख जगाते हैं- राजा के दरबार मैं भूखा खड़या सै फकीर भिक्षा घाल दे मेरै। टेक दुःख की घड़ी बीत रही आज मेरे दुख का करो ईलाज मोहताज फिरुं सूं

सरवर-नीर (फौजी मेहर सिंह) ...और पढणा सै

अंजना-पवन (फौजी मेहर सिंह)

किस्सा अंजना-पवन एक समय की बात है रतनपुरी नगरी में राजा विद्यासागर राज किया करते। उनकी रानी का नाम केतुमती था। इनका पुत्र पवन एक शूरवीर योद्धा था। पवन रंग का सांवला था परन्तु उसकी शोर्यगाथा सभी रियासतों में फैली हुई थी। महेन्द्रपुर नगरी के राजा महेंद्र सिंह की लड़की अंजना पवन की हमउम्र थी और वह पवन के शोर्य से प्रभावित थी। अंजना की माँ हृदवेगा अंजना के विवाह के लिए अलग अलग राज्यों के राजकुमारों के फोटो मंगवा

अंजना-पवन (फौजी मेहर सिंह) ...और पढणा सै

जाट मेहर सिंह

जाट मेहर सिंह एक अनुमान के अनुसार उनका जन्म 15 फरवरी 1918 को बरोणा तहसील-खरखौदा (जिला-सोनीपत) हरियाणा में नंदराम के घर हुआ। चार भाइयों भूप सिंह, मांगेराम, कंवर सिंह व एक बहन सहजो में वह सबसे बड़े थे। परिवार की माली हालत के चलते पढऩे में होशियार होने के बावजूद वे तीसरी जमात से आगे नहीं पढ़ सके। पढ़ाई छूट जाने के कारण वे पशु चराने व कृषि कार्यों में हाथ बंटाने लगे। घर में रागनी पर पाबंदी होने के

जाट मेहर सिंह ...और पढणा सै

bandar terpercaya

mbo99 slot

mbo99 situs slot

mbo99 slot mpo

agen resmi

bandar judi

slot99

akun jp

slot mpo

akun pro myanmar

sba99 slot

daftar sba99

mpo asia

agen mpo qris

akun pro platinum

paito hk

pola gacor

sba99 bandar

akun pro swiss

mpo agen

akun pro platinum

qris bri

slot deposit 1000

mbo99

slotmpo

sba99

slot akurat

mbo99 slot

mbo99 link

mbo99 agen

situs mbo99

mbo99 daftar

mbo99 situs

mbo99 login

mbo99 bet kecil

mbo99 resmi

mbo99

mbo99

  • limatogel
  • sba99

    sogotogel

    mbo99